नमक स्वादानुसार (Book Review)

​'मौत बेशक़ जिंदगी से कहीं ज्यादा हसीन होती है। कभी टोपाज के ब्लेड को अपनी कलाई पर रख कर देखना। ऐसा लगता है जैसे शीरी से मिलने फ़रहाद आ गया हो।' - निखिल सचान निखिल सचान दिल खोल के लिखने वाले इंसान हैं। नमक स्वादानुसार इनकी पहली किताब है। यह एक कहानी संग्रह है। इसके … Continue reading नमक स्वादानुसार (Book Review)

Demons In My Mind – When Mind Becomes Your Biggest Enemy (Book Review)

​"Our minds are what create illusions of faith to achieve their purpose. If God is considered to be one of the many forms of faith, then a controlled mind will create God to unite people and extend peace. A helpless mind will create God in times of sorrow and loneliness. An uncontrolled mind will kill … Continue reading Demons In My Mind – When Mind Becomes Your Biggest Enemy (Book Review)